Read More..

Sad Status

From this website, you can see lots of sad status in hindi language and share. You can read all these best sad status in hindi and share on whatsapp status. This is the latest and new collection of sad status in hindi for whatsapp. There are multiple collection of sad whatsapp status that you can copy status. Read all the new sad whatsapp status and then share this sad status online. We have multiple collections of very sad status that you can copy and paste. In the text, we have lots of sad status in hindi for life that you can copy. We have multiple collection of sad status in hindi for life and fb sad status. Simply, you can copy this fb sad status and then share this best fb sad status.

बिल्कुल जुदा है मेरे महबूब की, सादगी का अंदाज... नजरे भी मुझ पर है और नफरत भी मुझ ही से…!
हम खुश रहने की कोशिश इसलिये भी करते है, क्यूँकी हमें पता है कि हमें मनाने वाला कोई नहीं...!
ऐ जिंदगी ख़त्म कर अब ये तमासा मैं थक गया हूँ दिल को तसल्लियाँ देते देते...!
हम तो हद से गुजर गए थे तुम्हे चाहने में… तुम्ही उलझे रहे हमे आजमाने में...!
हम रूठे दिलों को मनाने में रह गए, गैरों को अपना दर्द सुनाने में रह गए, मंज़िल हमारी, हमारे करीब से गुज़र गयी, हम दूसरों को रास्ता दिखाने में रह गए...!
हमने गुज़रे हुए लम्हों का हवाला जो दिया हँस के वो कहने लगे रात गई बात गई...!
मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है, बोला, साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है...!
हमने तो एक ही शख्स पर चाहत ख़त्म कर दी... अब मोहब्बत किसे कहते है मालूम नहीं...!
चलो अब जाने भी दो, क्या करोगे दास्तां सुनकर… खामोशी तुम समझोगी नहीं, और बयां हमसे होगी नहीं…!
हमारी चर्चा छोडो दोस्तों, हम ऐसे लोग है जिन्हें, नफरत कुछ नहीं कहती और मोहब्बत मार डालती है…!
यूँ तो सिखाने को ज़िन्दगी बहुत कुछ सिखाती है… मगर झूठी हँसी हसने का हुनर तो मोहब्बत ही सिखाती है...!
अब इश्क ☝ भी करो तो ‎ज़ात पूछकर करना, ☝ यारो ‎मज़हबी झगड़ो में ‎मोहब्बत हार ☝ जाती है…!
हर किसी में तुझे पाने की कोशिश की बस एक तुझे न पा सकने के बाद...!
तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है, जिसका रास्ता बहुत खराब है, मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा ना लगा, दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है...!
खामोशी के भी अपने अल्फाज़ होते हैं… अगर तुम समझ जाते तो आज मेरे पास होते...!
हर रोज़ खाते थे वो कसम मेरे नाम की, आज पता चला की जिंदगी धीरे धीरे ख़त्म क्यूँ हो रही है...!
चल हो गया फैसला कुछ कहना ही नहीं… तू जी ले मेरे ‪बगैर‬ मुझे ‪जीना‬ ही नहीं...!
हारना तब जरुरी हो जाता है, जब लड़ाई अपनों से होती है...!
प्यार में मेरे सब्र का इम्तेहान तो देखो… वो मेरी ही बाँहों में सो गए… किसी और के… लिए रोते रोते…!
हर कोई मुझे जिंदगी जीने का तरीका बताता है, उन्हें केसे समझाऊ एक ख्वाब अधुरा है… वर्ना जीना मुझे भी आता है...!
आज उन्हे फुर्सत नही हमसे बात करने की... ये जिन्दगी गुजर गई उनकी फरियाद करके... वो आए हमारी मौत पे तो कह देना... अभी सोया है आपको याद करके...!
ना मेरी नीयत बुरी थी, ना उसमे कोई बुराई थी... सब मुक़द्दर का खेल था बस किस्मत में जुदाई थी...!
बड़ी आसानी से दिल लगाये जाते हैं, पर बड़ी मुश्किल से वादे निभाए जाते हैं, ले जाती है मोहब्बत उन राहो पर, जहा दिए नही दिल जलाए जाते हैं...!
तुमको मेरे जैसे बहुत मिलेंगे... पर याद रखना उन सब में मैं कभी नहीं मिलूँगा...!
जिंदगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ !! मगर, किसी के भरोसे का फ़ायदा नहीं !!
मोहब्बत एक खेल था ताश का हम बाजी मार गए वो बादशाह होकर भी एक बेगम से हार गए...!
अब अकेला नहीं रहा मैं यारों… मेरे साथ अब मेरी तन्हाई भी है...!
मुझको ढुँढ लेता है रोज किसी बहाने से, दर्द वाकिफ हो गया हैँ मेरे हर ठिकाने से…!
ढूंढ तो लेते अपने प्यार को हम, शहर में भीड़ इतनी भी न थी... पर रोक दी तलाश हमने, क्योंकि वो खोये नहीं थे, बदल गये थे...!
ख़्वाहिशों का कैदी हूँ, मुझे हकीक़तें सज़ा देती हैं...!
किस किस से वफ़ा के वादे कर रखे हैं तूने ??? हर रोज़ एक नया शख्स मुझसे तेरा नाम पूछता है ???
वो अक्सर मुझसे पूछा करती थी, तुम मुझे कभी छोड़ कर तो नहीं जाओगे, काश मैंने भी पूछ लिया होता...!
कैसे करूँ मैं साबित… कि तुम याद बहुत आते हो… एहसास तुम समझते नही… और अदाएं हमे आती नहीं…!
अपनी तो ज़िन्दगी ही अजीब कहानी है... जिस चीज़ को चाहा वो ही बेगानी है… हँसते है तो सिर्फ दोस्तों को हसाने के लिए… वरना इन आँखों में में पानी ही पानी है…!
अखबार तो रोज़ आता है घर में, बस अपनों की ख़बर नहीं आती...!
खुद से मिलने की भी फुरसत नहीं है अब मुझे, और वो औरो से मिलने का इलज़ाम लगा रहे है…!
जिस्म‬ पर ‪‎जो निशान‬ हैं ना ‪‎जनाब‬, वो ‪बचपन के‬ हैं बाद के‬ तो ‪सारे दिल‬ ❤ ‪‎पर है‬...!
हजारो गम है सीने मे मगर शिकवा करें किससे… इधर दिल है तो अपना है… उधर तुम हो तो अपने हो…!
ज्यादा कुछ नहीं बदला उसके और मेरे बीच में पहले नफरत नहीं थी और अब मोहब्बत नहीं हैं...!
हमने तुम्हें उस दिन से और ज़्यादा चाहा है, जबसे मालूम हुआ के तुम हमारे होना नही चाहते...!
बारिश‬ के ‪बाद‬ तार पर ‪टंगी‬ ‪आख़री‬ ‪‎बूंद‬ से पूछना, क्या‬ होता है ‪‎अकेलापन‬...!
मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने Message तेरे, तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी...!
अच्छा करते हैं वो लोग जो मोहब्बत का इज़हार नहीं करते... ख़ामोशी से मर जाते हैं मगर किसी को बदनाम नहीं करते...!
सुनो ना… हम पर मोहब्बत नही आती तुम्हें, रहम तो आता होगा...?
अबकी बार सुलह करले मुझसे ए दिल वादा करता हूँ की फिर नहीं दूँगा तुझे किसी ज़ालिम के हाथों में...!
कितना नादान है ये दिल, कैसे समझाऊँ की, जिसे तू खोना नही चाहता हैं, वो तेरा होना नही चाहता है...!
कैसे करे इंतजार तेरे लौट आने का, अभी दिल को यकीन नहीं हुआ है तेरे चले जाने का...!
कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी, हज़ारों अपने हैं मगर, याद सिर्फ तुम ही आते हो...!
तेरे गुरूर को देखकर तेरी तमन्ना ही छोड़ दी हमने, जरा हम भी तो देखे कौन चाहता है तुम्हे हमारी तरह…!
फ़िक्र तो तेरी आज भी करते है बस जिक्र करने का हक नही रहा...!